Friday, 29 December 2017

Modi - a selfless man

उसे अगर वोट ही लेना होता तो वो,
कभी नोटबंदी नहीं करता कभी भी GST नहीं लाता,
उसे वोट ही लेना होता तो वो कभी सब्सिडियाँ ख़त्म नहीं करता, लेकिन
उसने दिल और घुटने के ऑपरेशन के दाम, ढाई लाख से 50 हज़ार करके डॉक्टरों को नाराज़ किया...

उसने 800 दवाओं के दाम कम करके मेडिकल वालो को नाराज किया...

उसने 1% टैक्स लगा कर स्वर्णकारों को नाराज़ किया....

उसने होटल वालों के सर्विस चार्ज पर हथौड़ा चला के, ग्राहकों के हित के लिए होटलवालों से पंगा लिया...

उसने 500 और 1000 के नोट बन्द कर के अपने ही परम्परागत वोट बैंक को नाराज़ किया....

कैश लेस को बढ़ावा दे कर वो टैक्स चोरों के रास्तों का रोड़ा बन गया है....

रेडा जैसा क़ानून कर के बिल्डरों को नाराज़ किया...

बेनामी संपत्ति का क़ानून पारित कर के ज़मीन के काला बाजारियों को बेनक़ाब कर रहा है...

स्पेक्ट्रम, कोयला, आदि का भ्रष्टाचार दूर कर, देश को लाखों करोड़ों का फ़ायदा देने के लिए बड़े उद्योगपतियों से पंगा लिया....

गैस सब्सिडी, मनरेगा, आदि का पैसा सीधे बैंक खाते में जमा करने के कारण सभी बिचौलियों की दुकानें बंद कर दी....

युरिया को नीम कोटिंग करने से केमिकल फ़ैक्टरियों का गोरख धंदा चौपट कर दिया...

2 लाख 24 हज़ार चोर कंपनियों का पंजीकरण रद्द और 1 लाख नकली कंपनियों की पहचान की  !!!

लगभग हर क्षेत्र में भ्रष्टाचार कम करने के नये नये तरीक़ों का आग़ाज़ कर रहा है....

सभी सरकारी कामों में टेक्नॉलजी के कारण गति लाने के प्रयास के कारण दलालों का 'स्पीड-मनी' बंद कर रहा है...

और न जाने कितनों को वो रोज़ नाराज़ कर रहा है....

हो सकता है आप भी उस के किसी क़दम से नाराज़ चल रहे हो, आप का भी कुछ नुक़सान हुआ हो....

वो असल में पागल बन गया है क्या? वो चाहता तो आराम से किसी का दिल दुखाए बिना राज कर सकता है...

वह हर रोज़ नये नये क़दम उठा कर देश के हर क्षेत्र की बुराइयाँ दूर करने की रात दिन मेहनत कर रहा है...

क्योंकि...

उसे कुर्सी से प्रेम नहीं है । उसे सिर्फ अपने देश और सवा सौ करोड देशवासियों से प्रेम है...वो अपने देश को दुनियाँ में सबसे समृद्ध बनाना चाहता है...हर बुराई को ख़त्म करना चाहता है...वो भी इसी जनरेशन में...

अब भले ही आप उसे वोट न दें....
हो सकता है उस की कुर्सी 2019 में चली जाएँ लेकिन उसे उस की चिंता नहीं है....

आज जो उसका या उस के समर्थकों का मज़ाक उड़ा रहा है वो वास्तव में खुद का और खुद की भावी पीढी का मज़ाक उड़ा रहा है...।

देश बेचकर अपना जेब भरनेवाले चंद दोगले नेताओं, टीवी चैनलों और ब्युरोक्रेट्स की बातों में आकर उसका साथ छोडा तो खुद को मज़ाक बनने से तुम्हें कोई नहीं रोक सकता।

सरकार की कुछ कमियों को, कुछ अब तक न हुए कामों को बढ़ा चढ़ा कर बोल कर ये लोग आप को गुमराह कर रहे है...

इस स्थिति में सभी खूनी भेडिये उसके खिलाफ लामबंद हो रहे हैं...

लेकिन देश के लिए उसे हमारे साथ की जरुरत है...
इस से भी ज्यादा हमें उस की ज़रूरत है। आप ने उसे हटा दिया तो उस का कुछ नहीं बिगड़नेवाला...वो तो हिमालय चला जाएगा...

लेकिन हमारी अगली नस्लें हमें सैकड़ों सालों तक कोसेगी....

जागो भाइयों,
हमें अपने प्रधानमंत्री का साथ हर हाल में देना ही होगा..हमें उसकी आवाज बननी है...अपने और अपने बच्चों के भविष्य के लिए....

बाकि आपको जो अच्छा लगे कीजिए लेकिन एक बार यह ज़रूर सोचिए कि आखिर वह यह सब काम किसके लिए कर रहा है...हमारे लिए या अपने लिए???

Plz HAVE FAITH in MODI,उसे अपना घर भरना होता तो वह 13 साल गुजरात का CM रह कर भर लेता।
उसे कुर्सी से प्रेम नहीं है सिर्फ अपने देश से प्रेम है...

आप मोदी से उनकी कुर्सी छीन सकते हैं लेकिन वो संकल्प वो महान संकल्प नहीं छीन सकते जो उन्होंने भारत को महान बनाने के लिए लिया हुवा है ..
मुझे गर्व है अपने प्रधान सेवक पर

देश हित मे शेयर जरूर करे,

Saturday, 16 December 2017

Morning Thoughts

।।" सवेरा तो रोज ही होता है परन्तु शुभप्रभात क्या होता है"।।

बुद्ध ने बहुत ही सुन्दर जबाब दिया।
" जीवन में जिस दिन आप अपने अंदर के बुराईयो को समाप्त कर उच्च विचार तथा अपनी आत्मा को शुद्ध करके दिन की शुरुआत करते हो वही शुभप्रभात होता है....।

Congress abb aur kitna niche Giregi...!!

मणिशंकर अय्यर का मोदीजी को 'नीच' कहना कोई नई बात नहीं है! मोदीजी तो सदा ही कांग्रेसियों के निशाने पर रहे हैं! उनके लिए ये लोग किस तरह की भाषा इस्तेमाल करते रहे हैं-

तत्कालीन कांग्रेसी क़ानून मंत्री सलमान खुर्शीद ने उन्हें 'नपुंसक' कहा था! 25 फरवरी 2014
मणिशंकर अय्यर ने मोदी को लहू पुरुष (ब्लड मैन) की संज्ञा दी थी! नवम्बर 2012
इन्हीं अय्यर साहब ने मोदी को 'रावण' कह डाला था! नवम्बर 2012
कांग्रेस के ही हुसैन दलवी ने मोदी को 'चूहा' कहा था! नवम्बर 2012
कांग्रेसी नेता राशीद अल्वी ने मोदी को 'यमराज' कह डाला था! अप्रैल 2014
मणिशंकर अय्यर ने मोदी को 'सांप', 'बिच्छू', और 'गंदा आदमी' तक कह डाला था! 3 मार्च 2013
कोंग्रेसी बी. हरिप्रसाद ने मोदी को 'गंदी नाली का कीड़ा' बताया था ! 2009
कांग्रेसी मंत्री मनीष तिवारी ने मोदी की तुलना 'आतंकवादी दाउद इब्राहीम' से की थी! मार्च 2012
कांग्रेसी रिजवान उस्मानी ने मोदी को बद्तमीज़ और नालायक कहा था! 2009
कांग्रेसी शांताराम नाइक ने मोदी की तुलना 'पोल पॉट' से की थी! 7 जून 2013
सलमान खुर्शीद ने मोदी की तुलना 'बन्दर' से की थी! 8 जून 2013
कांग्रेसी मंत्री बेनी प्रसाद ने मोदी को 'पागल कुत्ता' बताया था 14 जुलाई 2013
कांग्रेसी मंत्री सलमान खुर्शीद ने मोदी को 'मेढ़क' की संज्ञा दी थी! 16 अगस्त 2013
कांग्रेसी मंत्री गुलाम नबी आज़ाद ने मोदी को 'गंगू तेली' कहा था! 17 अगस्त 2013
मंत्री बनी प्रसाद ने मोदी को 'आदमखोर' बताया था 11 जनवरी 2014
गुजरात-कांग्रेस -अध्यक्ष मोधवाडिया ने मोदी को 'मानसिक-मंद (mentally retarded)' बताया 2 फ़रवरी 2014
कांग्रेसी मंत्री शशि थरूर ने मोदी को 'खून बहाने वाला' कहा था! 2 अप्रैल 2014
बेनी प्रसाद ने नरेन्द्र मोदी को 'कोड़े से काबू में रखा जाने लायक जानवर' कहा था!
सोनिया गांधी ने नरेन्द्र मोदी को 'मौत का सौदागर' कहा था! 2007

गुजरात की जनता सत्ता के लिए बौखलाई कांग्रेस को मोदी जी के अपमान के लिए करारा जवाब देगी!
Share this article to everyone..
- the RANDOM lesson

Changes in India after Modi Become the Primeminister

भारती सिंह जो CISF की उच्च अधिकारी हैं, उन्होंने ये किस्सा सुनाया।*
*विषय था____ मोदी जी के आने के बाद सरकार के काम करने के तरीके में किस तरह का बदलाव आया है!*
*भारती CISF में उच्च पद पे नौकरी में रही हैं और लखनऊ, दिल्ली, जोधपुर और जम्मू Airport की security इंचार्ज रही हैं। उन्होंने Prime Minister के तौर पे अटल जी का ज़माना भी देखा है और मनमोहन सिंह का भी....!और अब मोदी जी का देख रही हैं।
*उस जमाने में जब अटल जी लखनऊ के सांसद थे तो PM होते हुए जब लखनऊ आते तो Airport पर उतरते।*
*पूरा protocol होता.....*
*पूरा सरकारी अमला......*
*लाव लश्कर.......*
*बड़े तामझाम.........*
*इसके लिए catering की व्यवस्था वहीं airport का ही एक caterer करता था...।*
*उन दिनों वहाँ लखनऊ में अटल जी की एक visit पे caterer का बिल बन जाता था एक से डेढ़ लाख रु तक का।*
*Congress के जमाने में यदि सोनिया जी......*
*राहुल....... या PM आते तो बिल 10 लाख के ऊपर चला जाता था।*
*मोदी जबसे PM बने हैं....!*
*4 या 5 बार कश्मीर दौरा कर आये हैं....*
*जम्मू , श्रीनगर, कटरा और लेह लद्दाख आते जाते रहते हैं....।*
*एक बार जम्मू उतरे थे......*
*Caterer का बिल बना सिर्फ 3500 रुपए मात्र।*
*वो भी CISF और Air India ने pay किया क्योंकि उनके स्टाफ के लिए चाय नाश्ता आया था कैंटीन से।*
*मोदी जी जब भी ऐसी किसी visit पे जाते हैं तो transit में चाय अपने पैसे से पीते हैं......।*
*उनके साथ उनके अमले में जो लोग होते हैं वो भी चाय नाश्ता अपने पैसे से करते हैं।*
*इसके बदले नियमानुसार उन्हें on duty travel का TA, DA मिलता रहा है......!*
*भारती जी बताती हैं कि CISF में 22 साल नौकरी करने के दौरान उन्होंने PM के विदेश दौरों की तैयारियों को खुद देखा है।*
*PM का जहाज जब लोड होता था......*
*विदेश दौरों के लिए तो उसपे क्या क्या लादा जाता था.......*
*वो पूरा खोल कर लिखने लायक नहीं।*
*Private News Channels के पत्रकारों की फ़ौज जाती थी PM के साथ.......।*
*और न जाने क्या क्या ऐश अय्याशियाँ होतीं थीं......।*
*अब सिर्फ दूरदर्शन के 3 या 4 आदमी जाते हैं।*
*अब PM के दौरों में दारू की नदियां नहीं बहतीं।*
*सभी कर्मचारी अपने travelling allowance में से ही खर्चा करते हैं....*
*अब आप ही सोचिए.....,*
*ऐसे माहौल में मुफ्तखोरों और देश को लूटने वालों के अच्छे दिन कैसे आएँगे.....?*
*कुछ बातों पर तो सचमुच गर्व करने योग्य हैं।*
*जापान के प्रधानमंत्री शिंजो आबे अपने ट्विटर पर मात्र 13 लोगों को फॉलो करते हैं उनमें से एक नरेंद्र मोदी हैं।*
*अमेरिका से मात्र 3 देश हॉटलाइन पर ट्रम्प से सीधे बात कर सकते हैं, उनमे से एक भारत भी है।*
*रूस के पुतिन से मात्र दो देश अमेरिका और भारत हॉटलाइन पर सीधे बात कर सकते हैं।*
*जबकि अन्य देशों को ट्रम्प और पुतिन से बात करने के लिए 10 दिन पूर्व स्वीकृति लेनी पड़ती है।*
*और ये सब नरेंद्र मोदी के प्रधानमंत्री बनने के बाद हुआ है.. आप स्वयं भारत की बढ़ती हैसियत का अंदाज़ा लगाइये।*
*जय हिंद! जय भारत !!!*
ये न्यूज मीडिया वाले कभी भी नहीं बताएेंगे
फैला दो पूरे देश में यारो
ये भी एक देशभक्ती ही होगी

Saras Mela - in detail : places you must visit in Patna

Hey friends, welcome to the RANDOM lesson. today we will be disscussing about saras mela. A large number of people thronged the Gandhi Maidan on the first day of Saras Mela 2017, which was inaugurated by state rural development minister Shravan Kumar, on Tuesday. The fair will conclude on December 26.Watch the Video Below.
Know about People's Opinion on Saras Mela
plz Like Share & Subscribe to my channel

Organisers said 21 states are participating in the fair and nearly 450 stalls have been put up. One can visit the fair between 10am and 8pm. "This year theme is 'Udyami Mahila, Unnat Rashtra'. Over 134 self-help groups of women from 35 districts of Bihar are participating in the fair," said an organiser.

Handmade crafts from wood and bamboo, Mithila painting, terracotta artwork, silk handlooms, khadi and jute handicrafts are available at the fair. Home furnishing items, jewelleries, clothes, footwear and other accessories can also be bought at a reasonable price.

Cuisines from Bihar, Maharashtra, Rajasthan and other states, such as mushroom pakodas, makke di roti, Rajasthani kachori, and Marathi thali, are finding many takers. In a bid to promote cashless transactions, plastic money is accepted at all the booths.

A special fun zone has also been allocated, especially for the children, with childcare facility. Under the guidance of staff members from Women Development Corporation (WDC), one can keep their child in the childcare facility with name, address and phone number and shop carefree for hours.

share this post with your friends and family and do visit Saras Mela. you will defiantly enjoy. thanks for your time.
Watch Full Video Here-  https://youtu.be/Zp8yvIGc1R4
Know about People's Opinion on Saras Mela
plz Like Share & Subscribe to my channel

Friday, 8 December 2017

Latest on Ayodhya Ram mandir issue

नरेंद्र मोदी ने कहा KI RAAM मंदिर मुद्दे को लटकाना चाहती है कांग्रेस ।
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बुधवार को बाबरी मस्जिद राम जन्मभूमि मामले को 2019 के चुनाव से जोड़ने पर कांग्रेस को आड़े हाथों लिया। गुजरात में चुनावी सभा के दौरान प्रधानमंत्री ने पूछा कि क्या कांग्रेस विवाद को राजनीतिक लाभ हानि के चक्कर में सुलझाना नहीं देना चाहती । मोदी ने कहा उनकी सरकार ने यूपी विधानसभा में संभावित नुकसान का खतरा मोड़ लेते हुए सुप्रीम कोर्ट में तीन तलाक का विरोध करने का फैसला लिया था और साथ में एक साथ लोकसभा एवं विधानसभा चुनाव कराने की मांग की है। मोदी ने कहा कल सिब्बल ने मुस्लिम समुदाय की वकालत कि उन्हें ऐसा करने का हक है और हमें कोई दिक्कत नहीं है लेकिन आप यह नहीं कह सकते कि मामले की सुनवाई नहीं होनी चाहिए । आप चुनाव के नाम पर राम मंदिर का मुद्दा की सुनवाई रोकना चाहते हैं।

-By the RANDOM lesson

Wednesday, 6 December 2017

Indian village Lifestyle

https://youtu.be/q7QaRtG5iAY


watch this full video here only on my you tube channel "the RANDOM lesson"

The soul of India lives in its villages, 60 percent of the population still lives in villages of India. Indian villages have a very beautiful and attractive lifestyle. The Villages are free from the hustle and bustle of a city life, villages are peaceful, calm, quite and full of greenery where one can breathe fresh air. The beauties of villages are described by the way villagers happily live in the small huts or a home, made by clay or mud. A big open area with trees at the front and a vegetable garden at the backyard, surrounded by the bamboos. The villagers are socially knit together, every evening they assemble in the village “Chopal” with their ‘hukkas’ and chatting and talking goes on till late the night.


Indian village house are Eco- friendly in nature, made by bamboos and mud’s. The houses in Indian villages are mostly built of bamboo with thatched roofs. Wall and floor of the village houses are by painted by a mixture of dirt, grass, and cow shit. Before and after rain, these house need a maintenance every time. Most of the people who live in villages are farmers, other works as potters, carpenters, blacksmith. Bull’s are use for farming and other activity in field. Women work planting the rice paddy, while the men work pulling bullock carts, tilling new soil etc


The educational status of the people in the villages of India is not so good, some of the villages even don’t have school. There are no water supply, no indoor toilets and no electricity. River water, well or hand pump are the main source of water. Life in the villages of India differ from one region to another, these Indian villages contain the list of famous tribal groups in India. The life style of villagers are very clean,sweet and simple. They don’t dream for big house,vehicle,money etc, whatever they got that is enough to live their life happily.

Popular Posts

YOU MUST READ